एफआईआर का फुल फॉर्म – एफआईआर का फुल फॉर्म क्या है और ऑनलाइन एफआईआर कैसे दर्ज करें

एफआईआर का फुल फॉर्म है प्रथम सूचना रिपोर्ट। यह एक लिखित दस्तावेज है जो पुलिस विभाग द्वारा संज्ञेय अपराध की जानकारी के लिए तैयार किया जाता है।

FIR Full Form: First Information Report

भारत, पाकिस्तान, श्रीलंका, बांग्लादेश आदि में अपराध को दो श्रेणियों में बांटा गया है एक संज्ञेय अपराध और गैर संज्ञेय अपराध है।

एफआईआर का फुल फॉर्म: प्रथम सूचना रिपोर्ट

संज्ञेय अपराध

संज्ञेय अपराध में पुलिस विभाग बिना किसी पूर्व सूचना/वारंट के किसी व्यक्ति को गिरफ्तार कर सकता है।

असंज्ञेय अपराध

असंज्ञेय अपराध में पुलिस अधिकारी को बिना किसी पूर्व सूचना/वारंट के लोगों को गिरफ्तार करने का कोई अधिकार नहीं है।

नोट: प्राथमिकी केवल संज्ञेय अपराध के मामले में ही दर्ज की जा सकती है।

प्राथमिकी का महत्व (प्रथम सूचना रिपोर्ट)

एफआईआर के कई महत्व हैं जो इस प्रकार हैं:

  • यह जांच और आपराधिक न्याय की प्रक्रिया में मदद करता है
  • इससे केस को तेजी से आगे बढ़ाने में मदद मिलती है।
  • यह पुलिस अधिकारी को कार्रवाई में डालता है।
  • यह तत्काल कार्रवाई करने में मदद करता है।

प्राथमिकी दर्ज करने के लिए आवश्यक जानकारी

1. शिकायतकर्ता का व्यक्तिगत विवरण:

  • (एक नाम
  • (बी) पिता / पति का नाम
  • (सी) पता
  • (डी) मोबाइल नंबर
  • (ई) ईमेल आईडी:

2. घटना का स्थान:

  • क) पुलिस स्टेशन से दूरी
  • b) पुलिस स्टेशन से निर्देश

3.घटना की तारीख और समय:

4. अपराध/अपराध:

  • क) अपराध की प्रकृति (जैसे हत्या, चोरी, आदि)
  • बी) धारा (केवल पुलिस विभाग द्वारा लिखित)
  • ग) संपत्ति का विवरण (चोरी होने की स्थिति में)

5.आरोपी का विवरण:

6. गवाहों का विवरण (यदि कोई हो)

शिकायत: घटना के बारे में तथ्यों को संक्षेप में सही तरीके से दर्ज करें।

नोट: शिकायत के अंत में शिकायतकर्ता के हस्ताक्षर या अंगूठे का निशान होना चाहिए।

क्या है ई-एफआईआर

ई-एफआईआर का मतलब आधिकारिक पोर्टेबल पर जाकर ऑनलाइन एफआईआर दर्ज करना है। ई-एफआईआर ने व्यवस्था को बहुत आसान बना दिया है और शिकायतकर्ता घर बैठे आसानी से प्राथमिकी दर्ज करा सकता है।

लेकिन जैसा कि हम सभी जानते हैं कि ज्यादातर व्यक्ति या शिकायतकर्ता मुख्य रूप से पुलिस स्टेशन जाने या जाने के लिए उपयोग करते हैं क्योंकि बड़ी संख्या में आबादी ग्रामीण या अर्ध-ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है जो कि अविकसित हैं और अधिकांश लोग आज भी तकनीक से परिचित नहीं हैं।

भारत में अधिकांश आबादी ई-एफआईआर से परिचित नहीं है।

अंतिम शब्द

एफआईआर स्टैंड फॉर प्रथम सूचना रिपोर्ट जो संज्ञेय अपराध (हत्या, दहेज, चोरी) के मामले में दर्ज की जा सकती है और आरोपी को तुरंत पुलिस अधिकारी द्वारा गिरफ्तार किया जाएगा।

कोई भी पीड़ित पुलिस थाने में जाकर संज्ञेय अपराध के मामले में प्राथमिकी दर्ज कर सकता है या ई-एफआईआर दर्ज करने के लिए आधिकारिक पोर्टल पर भी जा सकता है।

दोस्तों अगर आपको किसी टॉपिक या सब्जेक्ट से संबंधित कोई जानकारी या फुल फॉर्म चाहिए और परीक्षा से संबंधित किसी भी सहायता और पूछताछ की जरूरत है तो आप नीचे कमेंट कर सकते हैं। हम जितनी जल्दी हो सकेगा संपर्क करेंगे। और कृपया इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शेयर करना न भूलें।

किसी भी प्रश्न के लिए टिप्पणी करें

Leave a Comment

error: